पत्नी के साथ ज़िन्दगी खूबसूरत हो जाती है | Short Story In Hindi | Best Motivational Story In Hindi

Short Story In Hindi : मेरा नाम रोहित है मैं एक मिडिल क्लास फैमिली से बिलोंग करता हूं मेरी शुरू से ही ख्वाहिश थी कि मेरी शादी किसी खूबसूरत लड़की के साथ हो और मेरा ससुराल भी बहुत अमीर हो क्योंकि मेरे जितने भी फ्रेंड्स थे उन सबकी ही ससुराल अमीर थी और वह लोग अपने ससुराल में जाकर बहुत खुश होते थे मैं तो पहले से ही मिडिल क्लास था अब मैं नहीं चाहता था कि मेरी ससुराल भी मिडिल क्लास हो |

इसलिए मैं हाई क्लास ससुराल के सपने देखता था और साथ ही साथ खूबसूरत पत्नी के भी मैं हैदराबाद में रहता था मैं ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाना चाहता था मगर मुझे नौकरी मेरे हिसाब की नहीं मिल रही थी ज्यादा सैलरी ही नहीं मिल पाती थी मैं किसी अच्छी नौकरी की तलाश में था मुझे मेरे दोस्त ने कनाडा के बारे में बताया मैं अपने दोस्त के साथ कनाडा जाने के लिए तैयार हो गया था क्योंकि उसने वहां पर एक कंपनी के बारे में बताया था

 उसने कहा था कि वह भी उसे कंपनी में नौकरी करेगा और वहां जाने के बाद शायद उसकी जिंदगी बदल जाएगी मेरे पिता इस दुनिया में नहीं थे मेरी दो छोटी कुंवारी बहनें थी और मेरी मां थी इन सबकी ही उम्मीदें मुझसे जुड़ी हुई थी मेरी मां और मेरी दोनों बहनें मुझसे बहुत प्यार किया करती थी उन सबको मेरी शादी की बहुत ख्वाहिश थी वह लोग चाहती थी कि जब मेरी शादी होगी तो वह अपनी सारी ख्वाहिशों को पूरा कर लेंगी क्योंकि मैं उनका एक ही तो भाई था 

इसलिए मेरी बहनें मां पर जोर डालती थी कि भैया की शादी जल्द से जल्द कर दो हम अपने भैया की शादी में अपने सारे अरमान पूरा करना चाहते हैं हम यह करेंगे वो करेंगे वगैरह वगैरह अपनी बहनों को अपनी शादी के लिए इतना एक्साइटेड देखकर मैं भी बहुत खुश होता था अब मुझे अमीर ससुराल चाहिए थी तो उसके लिए मुझे खुद को भी अमीर बनाना था कोई ऐसे ही तो अपनी बेटी मुझे देने के लिए तैयार नहीं होता 

अभी मेरी बहनें भी पढ़ाई कर रही थी इन सब की जिम्मेदारी मेरे ऊपर ही थी वैसे तो मेरे पापा के गांव में उनकी जमीन भी पड़ी हुई थी मगर मैंने उन जमीनों को मुश्किल समय के लिए छोड़ा हुआ था क्योंकि कभी-कभी जिंदगी में ऐसा मुश्किल समय भी आ जाता है जब आपको पैसे की सख्त जरूरत होती है और आप दूसरों के आगे हाथ फैलाते हो मगर कोई भी आपकी मदद करने के लिए तैयार नहीं होता

 मैं नहीं चाहता था कि मेरी जिंदगी में भी कभी ऐसा समय आए इसलिए मैंने उस जमीन को संभाल कर रखा हुआ था मैंने अपनी मम्मी को कनाडा की नौकरी के बारे में बताया तो उन्होंने मुझे कनाडा जाने से साफ इंकार कर दिया था उनका कहना था कि मैं अपने इकलौते बेटे को अपनी आंखों के चिराग को अपनी आंखों से दूर नहीं करना चाहती हूं मेरी मम्मी तो ल भी हो गई थी उन्होंने कहा था कि तुम जानते हो कि तुम्हारे पिता का साया भी हम लोगों से उठ चुका है 

अब मैं नहीं चाहती कि तुम भी हमसे दूर हो जाओ तुम्हारे घर में जवान बहनें भी हैं उनकी ही फिक्र कर लो अगर लोगों को पता चलता है कि इस घर में कोई मर्द नहीं है तो लोग उसी घर के पीछे पड़ जाते हैं और जवान लड़कियों पर तरह-तरह के इल्जाम लगाते हैं मैंने अपनी मम्मी को समझाया कि अब नया जमाना आ गया है आजकल किसी को इतनी फुर्सत नहीं कि वह दूसरों के घरों में जांच पड़ हड़ताल रखे वह पुराना जमाना था 

जब लोग फ्री हुआ करते थे आजकल किसी को भी इतनी फुर्सत नहीं है सब अपने काम से काम रखते हैं प्लीज मम्मी मुझे जाने दो लेकिन मम्मी तो तैयार ही नहीं थी जब दो दिन तक मैंने घर में खाना नहीं खाया और मैं अपनी मम्मी से नाराज रहा तो फाइनली मेरी मम्मी मान गई थी मगर उनका दिल बहुत दुखा हुआ था वह बहुत उदास थी वह मुझे खुद से दूर नहीं करना चाहती थी उन्होंने मुझसे कहा था कि तुम कनाडा तो जा रहे हो 

लेकिन जिस तरह से जा रहे हो उसी तरह से ही सही सलामत वापस आना देखो बेटा हमारे पास भगवान का दिया सब कुछ है तुम सिर्फ अपनी जिद्द की वजह से वहां जा रहे हो हमें जरूरत नहीं है कि हम अपने बेटे को खुद से दूर काम करने के लिए भेज दें अब तुम्हारी उम्र भी 26 साल हो गई है मैं चाहती हूं कि मैं तुम्हारे लिए लड़की देखना शुरू कर दूं मैंने अपनी मम्मी से कहा अभी आप मेरे लिए लड़की ना देखो पहले मैं कनाडा से थोड़ा पैसा कमा कर ले आऊं 

उसके बाद मैं अपनी शादी खूब धूमधाम से करूंगा अभी तो मैंने अपनी मम्मी को शांत कर दिया था और फिर मैं अपने दोस्त के साथ कनाडा नौकरी करने के लिए चला गया था वहां पर मेरी और मेरे दोस्त की नौकरी मेरे दोस्त के किसी जान पहचान वाले के थ्रू हो गई थी और हमें बड़ी ही कंपनी में जॉब मिल गई थी हम दोनों अपनी जॉब में बिजी हो गए थे इसी तरह से मुझे जॉब करते हुए दो महीने गुजर गए थे

 लेकिन यहां कनाडा में मेरी मुलाकात एक लड़की से हुई थी जिसे देखते ही मैं पहली नजर में खो गया था वह इतनी ज्यादा खूबसूरत थी कि मेरी आंखें उसके चेहरे से हट नहीं रही थी उसकी नीली नीली आंखें और उसके लंबे-लंबे काले घने बाल वह देखने में बिल्कुल हिंदुस्तानी लगती थी वैसे तो यहां की सारी लड़कियां ही खूबसूरत थी मगर इस लड़की में कुछ अजीब ही बात थी मैं इसकी तरफ काफी अट्रैक्ट हो रहा था

 इसका चेहरा बार-बार मेरी आंखों के सामने आ रहा था यह वह लड़की थी जिसे मैं अपने ऑफिस आते टाइम पर देखा करता था जब मैं ऑफिस आता था तो यह लड़की बुक्स स्टॉल लगाकर बुक सेल किया करती थी मैं हर रोज इसे देखकर बहुत खुश होता था और चाहता था कि मैं उसे प्रपोज कर दूं मैं मन ही मन उसे चाहने लगा था इधर मेरी मम्मी कॉल पर मुझसे हर बार यही कहा करती थी कि मैं तुम्हारी शादी करना चाहती हूं 

मगर मैं हर बार मम्मी को मना कर दिया करता था कि अभी मैं शादी नहीं करना चाहता अभी मैं जॉब करना चाहता हूं मगर यहां पर मेरा ध्यान जॉब से पूरी तरह से हट चुका था क्योंकि धीरे-धीरे मैंने किसी तरह से इस लड़की से बातचीत करना शुरू कर दिया था इसका नाम एनी था एनी देखने में बहुत खूबसूरत थी और मैं बार-बार उसकी खूबसूरती की वजह से उसके करीब जाने की कोशिश करने लगा था

 मैं बहाने बहाने से उससे बातचीत करने की कोशिश करता था मैं काफी पढ़ा लिखा था इसलिए मुझे फ्रेंच और इंग्लिश दोनों ही लैंग्वेज आती थी वैसे भी कनाडा में यही लैंग्वेज बोली जाती थी इसलिए वह भी मुझसे इसी लैंग्वेज में बात किया करती थी धीरे-धीरे मेरी और एनी की फ्रेंडशिप हो गई थी क्योंकि मैंने अपनी कुछ अच्छी बातों से एनी को खुद की तरफ अट्रैक्ट कर लिया था एनी भी समझ रही थी कि मैं उसे पसंद करने लगा हूं अभी हम दोनों की फ्रेंडशिप को एक हफ्ता ही हुआ था 

मैंने एनी को प्रपोज नहीं किया था लेकिन एनी ने मुझसे एक अजीब सी बात कर दी थी उसने मुझसे शादी के लिए कह दिया था उसने कहा था कि वह मुझसे शादी करना चाहती है और अपनी शादी में ज्यादा समय नहीं लगाना चाहती हालांकि मैं भी उससे शादी करना चाहता था उसको अपनी पत्नी बनाना चाहता था लेकिन इतनी जल्दी यह मुझे कुछ गड़बड़ लग रहा था पर्यानी की वजह से मेरी जॉब का नुकसान हो रहा था क्योंकि मैं ऑफिस में बैठकर एनी से फोन पर बातें करता रहता था जिस वजह से मैं काम को ठीक से नहीं कर पा रहा था 

वैसे भी मुझे ऐसा लगता था जब से मुझे एनी मिली है मुझे सब कुछ मिल गया है इसलिए मुझे अभी जॉब की भी जरूरत नहीं है मुझे कैनेडा आए हुए तीन महीने गुजर गए थे मेरी मां मुझे बुला रही थी मगर मेरा अभी भी जाने का इरादा नहीं था लेकिन जब से आनी ने मुझसे शादी की बात की थी और उसने साथ ही साथ मुझसे यह भी कहा था कि मैं तुम्हारे साथ तुम्हारे घर चलना चाह हूं मैं यहां नहीं रहना चाहती मैंने एनी से उसकी फैमिली के बारे में पूछा तो उसने बताया कि मेरे माता-पिता इस दुनिया में नहीं है 

लेकिन मैं अपनी चार बहनों के साथ अपने घर में रहती हूं हम चारों बहनें कोई ना कोई काम करके अपना गुजारा करते हैं मैं इस शहर में नहीं रहना चाहती और फिर एक ना एक दिन तुम्हें भी यहां नौकरी छोड़कर अपने घर जाना ही होगा इसलिए तुम मुझे अपने साथ अपने घर लेकर चलो मुझे भी अब जॉब में ज्यादा दिलचस्पी नहीं हो रही थी इसलिए मैंने एनी की बात मान ली थी एनी की बहनों को उसकी शादी से कोई प्रॉब्लम नहीं थी इसीलिए उन्होंने उसको शादी की परमिशन दे दी थी

 और उसकी बहनें भी उसके इस फैसले से खुश हुई थी मैंने को लेकर घर वालों को बिना बताए ही अपने घर आ गया था मेरे घर वाले मुझे इस तरह से देखकर चौक गए थे जब मैं घर गया और मेरी मम्मी और मेरी बहनों ने देखा कि मेरे साथ एक खूबसूरत लड़की है तो वह लोग चौक गई थी कि यह लड़की कौन है और मेरे साथ क्या कर रही है उन्होंने तरह-तरह के सवाल करने शुरू कर दिए थे मैंने उनको बताया था कि मैं नी से शादी कर चुका हूं 

मेरी बात सुनकर उन सबके होश उड़ गए थे और उन्हें अपनी आंखों पर विश्वास नहीं हो रहा था कि मैंने इतना बड़ा कदम उनको बिना बताए उठा लिया मुझे पता था कि उनके लिए बात बहुत शौक ड वाली बात है मगर मैं एनी के प्यार में बहुत बुरी तरह से डूब गया था दरअसल एनी की बहनों की शर्त थी कि तुम यहीं से ही शादी करके हमारी बहन को अपने साथ लेकर जाओगे क्योंकि वह अपनी रस्मों के साथ उसकी शादी करना चाहती थी इसीलिए मेरी शादी उन्हीं के हिसाब से वहीं पर हो गई थी

 और मैं अपनी पत्नी को यहां पर लेकर आया था मगर यह बात मेरे घर वालों के लिए ठीक साबित नहीं हुई थी वह लोग मुझसे बहुत नाराज हुई थी मम्मी तो मुझसे बात भी नहीं करना चाहती थी मगर फिर मैंने उनको कहा था कि आपने सारी जिंदगी मेरी खुशी के लिए क्या कुछ नहीं किया बस आप एक बार एनी को एक्सेप्ट कर लोगी तो क्या हो जाएगा आप लोग जल्दी से मेरे कमरे की सफाई कर दो ताकि नी अपने कमरे में जाकर आराम कर सके सके क्योंकि वह भी सफर से बहुत थक गई है

 मैंने अपनी बहनों से कहा था कि मेरा कमरा फूलों से अच्छी तरह से सजा दो मेरी बहने जो मुझसे नाराज थी उन्होंने मेरी पत्नी की खूबसूरती देखकर उसे एक्सेप्ट कर लिया था मैं एक अमीर ससुराल चाहता था मगर नी की खूबसूरती ने मुझे सब कुछ भुला दिया था हालांकि यानी एक गरीब परिवार से बिलंग करती थी और वह खाली हाथी मेरे साथ यहां पर आई थी और हम दोनों की मोहब्बत भी सिर्फ एक महीने की ही थी एक महीने के अंदर-अंदर हम दोनों को प्या हुआ और हम दोनों की शादी भी हो गई थी

 अब मुझे उसके साथ अपनी आगे की जिंदगी शुरू करनी थी मेरा दिल आने वाली खुशियों की वजह से जोर-जोर से धड़क रहा था क्योंकि मेरी शुरू से ही चाहत थी कि मेरी पत्नी बहुत खूबसूरत हो वह दूध की तरह सफेद थी और उसके नरम रेशम जैसे बाल उसकी नीली आंखें अजीब लग रहा था कि मैं अपनी पत्नी की तारीफ कर रहा हूं मगर मैं खुद को दुनिया का सबसे खुशकिस्मत इंसान समझ रहा था

 लेकिन मैं यह बात भूल गया था कि मैं अपनी पत्नी की पहचान को ज्यादा नहीं जानता था क्योंकि हमारी शादी जल्दबाजी में हुई थी मुझे क्या पता था आगे आने वाला समय मेरे लिए बहुत डरावना साबित होने वाला है जो मुझे उससे दूर कर देने के करीब ले जाएगा मेरी जिंदगी में काफी सारी लड़कियां आई थी क्योंकि मैं काफी फ्लर्टी था मगर नी की तो बात ही अलग थी वह अभी बाहर आंगन में ही बैठी हुई थी मेरी बहन और मां ने कमरे की सफाई कर दी थी और मेरी छोटी बहन उसे कमरे में ले गई थी 

थोड़ी देर के बाद बाद मैं भी कमरे में जा रहा था मेरी आंखों में बहुत सारे सपने सजे हुए थे लेकिन जब मैं यहां आया था और मेरे मोहल्ले के लोगों ने देखा था कि मैं अपने साथ एक खूबसूरत लड़की को लेकर आया हूं तो सभी यह बात समझ गए थे कि मैं शादी करके आ गया हूं उन लोगों ने मुझे कनाडा की औरतों के बारे में बड़ी अजीब अजीब सी बातें बताई थी मेरे अपने कजिन ने मुझसे कहा था कि रोहित तुम एक रात भी इस लड़की के साथ नहीं रह सकोगे 

यह बात तुम मुझसे लिखवा लो अगर तुम्हें मेरी बात पर यकीन नहीं आए तो कल मुझे आकर बताना कि तुम्हारे साथ क्या हुआ कनाडा की औरतों के साथ हम हिंदुस्तानी लड़के जिंदगी नहीं गुजार सकते हिंदुस्तानी मर्द को एक हिंदुस्तानी औरत ही समझ सकती है और यह कनाडा की औरतें क्या-क्या करती हैं अगर तुम जान जाओ तो उनके साथ एक मिनट भी ना रहो मुझे अपने कजिन की यह बात बहुत बुरी लगी थी 

कनाडा की तो सारी ही लड़कियां मुझे बहुत अच्छी लगी थी अगर कोई अजीब बात होती तो मुझे जरूर पता चलती मुझे यानी के बारे में ऐसी बात सुनकर बहुत बुरा लगा था खासतौर पर कनाडा की औरतों के बारे में मेरे कजिन ने बड़ी अजीब अजीब बातें कही थी कि यह पति के पास जाने से पहले उसे धोखा देती हैं और अपने आप को बचाने के लिए ऐसे-ऐसे उपाय करती हैं कि तुम सोच भी नहीं सकते अपने कजिन की ऐसी बातें सुनकर मुझे उसकी सोच पर अफसोस होने लगा था मगर वह मुझसे उम्र में बड़ा था

 इसीलिए मैं खामोश हो गया था मैं जब घर वापस आया तो मेरा दिल खुशियों से झूम रहा था क्योंकि मैं नी को अपनी मां और बहनों के हवाले करके थोड़ी देर के लिए अपने दोस्तों से मिलने के लिए चला गया था तब तक मेरी बहनें एनी को तैयार कर रही थी मेरा दिल अपनी पत्नी के पास जाने के लिए बेचैन था मैंने कमरे का दरवाजा खोला मुझे उम्मीद थी कि मेरी पत्नी घूंघट गिराए हुए मेरा इंतजार कर रही होगी मेरी इज्जत करेगी मेरा शुक्रिया अदा करेगी क्योंकि मैंने उसके कहने के मुताबिक ही उससे शादी की थी

 मगर मैं जैसे ही कमरे के अंदर दाखिल हुआ तो मुझे कमरे के अंदर फूलों की खुशबू के बजाय प्यास की बदबू आने लगी थी मुझे हैरत का झटका लगा था दुल्हन के कमरे में तो फूलों की खुशबू होती है लेकिन मेरे कमरे से तो प्यास की बदबू आ रही थी मुझे बहुत अजीब सा लगा मैं इस बदबू में यह भूल ही गया था कि मेरी पत्नी मेरे सामने बैठी हुई है मैंने देखा तो वह सच में ही मेरे सामने बैठी हुई थी 

मगर कमरे में तो चारों तरफ बदबू फैली हुई थी मुझे यह बात कोई खास पसंद नहीं आई लेकिन अचानक मेरा ध्यान मेरी मम्मी और मेरी बहनों की तरफ चला गया था कि उन्होंने कमरे को अच्छी तरह से साफ नहीं किया होगा और उन्होंने कमरे में फूलों की खुशबू के बजाय प्यास की बदबू कर दी थी इसमें मेरी पत्नी का तो कोई कसूर नहीं था बल्कि शायद वह भी कमरे के अंदर अनकंफर्ट बल फील कर रही होगी 

इसलिए मैं अपनी पत्नी की तरफ बढ़ा मगर मेरी पत्नी ने अपना घूंघट नीचे किया हुआ था पहले तो मैं उसके बराबर में बैठ गया था मैंने सोचा कि मैं प्यार से उसका घूंघट नीचे सरका आंगा मगर जैसे ही मैंने उसके घूंघट को टच किया तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया उसके हाथ में सख ती थी उसने मेरे हाथ को मजबूती से पकड़ा हुआ था जैसे वह मेरे हाथ को अपने घूंघट के करीब नहीं आने देना चाहती थी

 उसकी यह बात मुझे बड़ी अजीब लगी थी कि शादी की पहली रात कोई पत्नी अपने पति को अपने करीब आने से क्यों रोकेगी और फिर हम दोनों की शादी तो मर्जी से हुई थी मुझ में तो इतनी शर्मिंदगी आ गई थी कि मैंने खुद ही अपने हाथ को पीछे कर लिया था उसे यह तक नहीं पूछा कि तुमने मेरा हाथ क्यों पकड़ा हुआ है मैं अपने कमरे से बाहर आने लगा था मैंने सोचा कि मैं नी से अब दोबारा बात नहीं करूंगा 

जब तक यह अपनी मर्जी से मुझे खुद को अपने हवाले नहीं कर देती फिर मैंने सोचा कि मैं क्यों इतना नरम दिल बनूं मैंने तो एनी की हर बात मानी थी उसने जैसा कहा था मैंने वैसा ही किया था यहां तक कि मैंने अपनी फैमिली को भी नाराज कर दिया था सिर्फ उसकी खातिर अब वह मेरी पत्नी थी मेरी उसके साथ शादी हो चुकी थी तो अब मैं उसके इतने नखरे क्यों बर्दाश्त करूं मैंने आगे बढ़कर उसका घूंघट अचानक तेजी से पलट दिया 

मगर घूंघट हटते ही मैंने जो नजारा देखा उसने तो मेरे होश ही उड़ा दिए थे मैं बस गिरते-गिरते बच गया था मुझे अपनी आंखों पर विश्वास नहीं हो रहा था कि मैं जो देख रहा हूं वह सच है या नहीं मुझे अपनी आंखों पर विश्वास नहीं था इसलिए मैंने खुद पर चुटकी काट कर देखा कि मैं कोई सपना तो नहीं देख रहा लेकिन इससे पहले मैं अपनी पत्नी से कोई बात करता अचानक कमरे पर दस्तक होने लगी

 मेरी पत्नी ने अपना घूंघट जल्दी से नीचे कर लिया मैंने कमरे का दरवाजा खोला तो सामने मेरी मम्मी खड़ी हुई थी थी मेरी मम्मी को पता था कि मेरी पत्नी को उनकी लैंग्वेज समझ नहीं आएगी उन्होंने अपनी लैंग्वेज में कहा बेटा तुम जानते थे कि मुझे और तुम्हारी बहनों को तुम्हारी शादी की कितनी चाहत थी हम अपनी पसंद की लड़की से तुम्हारी शादी करवाना चाहते थे मगर तुम तो इस लड़की को यहां पर लेकर आ गए हो

 तुमने वही किया जो तुम्हारे जी में आया अब तुम्हारे साथ जो भी होगा उसके जिम्मेदार हम नहीं हैं क्योंकि ये एक अनजान जगह की लड़की है ये लो चाय पी लो तुम्हारे सारे दिन की थकावट उतर जाएगी और अपनी पत्नी को भी दे देना मम्मी की बात सुनकर मुझे लगने लगा था कि मुझसे बहुत बड़ी गलती हो गई मगर इतनी जल्दी मैं किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकता था

इससे पहले कि मैं अपनी पत्नी से और कोई बात करता उसने धीमी सी आवाज में मुझसे एक बात कही वह कहने लगी मैं बहुत ज्यादा थक चुकी हूं इसलिए मैं चाहती हूं कि मैं अब सो जाऊं वैसे भी मैं अपनी पत्नी का जो रूप देख चुका था उसके बाद मैं थोड़ा हैरान रह गया था मैंने उससे कोई बात नहीं की और मैं कमरे से निकल आया था मैं अपनी मम्मी से शिकायत करना चाहता था कि कम से कम कमरे की सफाई तो उन्हें ढंग से करनी चाहिए थी 

कमरे से प्यास की बदबू आ रही थी ना ही वहां पर कोई फूल थे और ना ही उनकी खुशबू मैं बाहर गया तो देखा कि मेरी मम्मी अपनी दवाई खा रही थी वह मुझे अचानक से देखकर चौक गई और कहने लगी कि क्या हुआ है बेटा कहीं कुछ गड़बड़ तो नहीं हो गई मैंने अपनी मम्मी से कहा कैसी गड़बड़ की बात कर रही हैं आप मम्मी आपने मेरी पत्नी को एक्सेप्ट नहीं किया है 

आप ऐसी बातें मत करो आपने और आपकी बड़ी बेटी ने कमरे की सफाई करते समय बिल्कुल भी सफाई का ध्यान नहीं रखा क्या मेरे पीछे आप लोगों ने मेरे कमरे को इस्तेमाल किया है और अगर इस्तेमाल कर भी लिया था तो आपको कमरे की सफाई ठीक तरह से करनी चाहिए थी कमरे से बहुत तेज प्यास की बदबू आ रही है मुझे आप लोगों से यह उम्मीद नहीं थी मैंने कनाडा से आप लोगों को काफी सारे पैसे भेजे थे

 मुझे लगा था कि आप नी को देखकर खुश हो जाऊंगी मगर आप लोगों ने मेरे साथ क्या किया ना ही मेरा कोई स्वागत किया और मेरे इकलौते कमरे को भी ठीक से साफ नहीं किया मेरी बात सुनकर मम्मी ने मुझे गौर से देखा और कहने लगी बेटा तुम होश में तो हो हमने तुम्हारे कमरे की सजावट में कोई कमी नहीं छोड़ी थी तुम्हारा कमरा तो खुशबू से महक रहा था और हमने तुम्हारी पत्नी को 5 मिनट पहले ही तो कमरे में भेजा था

 फिर तुम कौन सी प्यास की बदबू की बात कर रहे हो तुम तो हमारे खिलाफ अभी से ही होने लगे हो आगे चलकर क्या होगा मम्मी के अंदर भी नॉर्मल सासों वाली आदत आने लगी थी य देखकर मुझे बड़ी मायूसी हुई मैं तो घर से ही निकल गया कितनी मोहब्बत और भरोसे के साथ मैंने एनी से शादी की थी मगर मुझे क्या देखने को मिला मैंने सारी रात सड़क पर गुजार दी थी मैं अपनी परेशानी की वजह किसी को बता भी नहीं सकता था 

मैं घर आ गया था जब मैं घर आया तो लगभग सुबह के 6:00 बज रहे थे मैं जैसे ही अपने कमरे में गया तो कमरे के अंदर से फूलों की खुशबू आ रही थी कमरे में फूल लगे हुए थे मैं हैरान हो गया था मुझे अपनी म मम्मी पर शक होने लगा कि कहीं वह मुझसे झूठ तो नहीं बोल रही थी मेरे नाराज होने पर उन्होंने अब कमरा फूलों से सजा दिया हो उन्होंने प्याज वाला हादसा मेरे साथ जानबूझकर किया हो 

ताकि मैं अपनी पत्नी से दूर हो जाऊं इस समय तो मेरी पत्नी भी गहरी नींद में सो रही थी मैं उससे भी कुछ नहीं पूछ सकता था अपने दिमाग में भी मैं सवाल लिए हुए बिस्तर पर लेट गया था और गहरी नींद में सो गया था जब मेरी आंख खुली तो दोपहर के 3:00 बज रहे थे मैंने सोच लिया था कि आज मैं अपनी पत्नी से बातें करूंगा और रात की भी सारी बात उससे पूछूंगा कि रात उसने मेरे साथ ऐसा क्यों किया था

 मगर मुझे मौका नहीं मिला दोपहर के खाने के बाद जब मैं अपने कमरे में वापस गया तो सामने के नजारे ने मुझे हैरान कर दिया मेरी पत्नी ने अपने बाल खोले हुए थे इतने मुलायम और चमकदार बाल मैंने किसी लड़की के नहीं देखे थे आज मैंने बिना किसी तकल्लुफ के अपनी सारी चाहतें अपनी पत्नी पर लुटा दी थी मुझे उसकी खूबसूरती ने दीवाना कर दिया था मैंने उससे पूछा कि तुमने मुझ पर कोई जादू तो नहीं कर दिया

 कल रात तुम्हें क्या हो गया था वह कहने लगी बस कल मैं थोड़ी थकी हुई थी इसलिए आपके साथ टाइम स्पेंड नहीं कर पाई आज से हमारी जिंदगी की शुरुआत हो गई है हम दोनों प्यार मोहब्बत के साथ रहेंगे और हमारी जिंदगी बहुत अच्छी तरह से गुजरेगी मेरी पत्नी के चेहरे पर एक अजीब सी मुस्कुराहट थी उसकी मुस्कुराहट से ऐसा लग रहा था जैसे उसने बहुत बड़े कारनामे को अंजाम दिया हो 

मैं अपनी पत्नी से इतना खु खुश था कि मेरा अपने कमरे से बाहर निकलने को मन ही नहीं कर रहा था मैं बार-बार उससे बातें करता उसके हाथ पकड़ता तो कभी उसके चेहरे को चूमता था मेरा दीवानापन ऐसा था कि जैसे मुझे दुनिया की खूबसूरत लड़की मिल गई हो रात हो गई थी और रात के 12:00 बजे का समय करीब आने लगा था मेरी पत्नी घबराने लगी थी मुझे उसके घबराने की वजह समझ नहीं आई थी

 वह मुझसे कहने लगी रोहित तुम सो क्यों नहीं जाते सो जाओ सुबह जल्दी उठ जाना तुम्हें अपनी नौकरी की शुरुआत भी तो करनी है कल से मैंने अपनी पत्नी से कहा कि इतनी जल्दी कौन सोता है अभी एक डेढ़ घंटे में सो जाएंगे मगर नी जिद करने लगी कि हमें जल्दी सोना चाहिए मैं अपनी इतनी खूबसूरत पत्नी की बात को कैसे टाल सकता था मैंने कहा अच्छा ठीक है हम सो जाते हैं

 मैंने आंखें बंद कर ली तो मुझे नींद आ गई जब मेरी आंख खुली तो लगभग एक घंटा गुजर गया था क्योंकि मुझे थकान हो रही थी मैं सोना नहीं चाहता था मगर जैसे ही मेरी आंख खुली मेरी पत्नी कमरे में नहीं थी यह देखकर मुझे अजीब सा लगा था क्योंकि उसने तो मुझसे खुद ही कहा था कि हम दोनों को सो जाना चाहिए आपको जल्दी उठना है मगर वह कमरे में नहीं थी मैंने उसे बाथरूम में भी देख लिया था

 मगर वह वहां पर भी नहीं थी अभी मेरी नजर दरवाजे पर पड़ी तो दरवाजा बंद नहीं था बल्कि खुला हुआ था मैं समझ गया कि वह बाहर गई हुई है अभी ज्यादा रात नहीं हुई थी इस समय तक तो मेरी मम्मी और बहनें जाग रही होती थी मुझे खुशी हुई थी कि वह मेरी मम्मी और बहनों से बातचीत करने बाहर गई है मैंने सोचा कि मैं बाहर जाकर मम्मी से पूछता हूं वह मेरी पत्नी से बहुत खुश होंगी कि उनकी बहू उनसे बातचीत करने के लिए उनके पास आई है

 मगर मैं जैसे ही कमरे से बाहर गया तो मेरी पत्नी वहां पर नहीं थी मेरी मम्मी अपनी कमरे में बिल्कुल अकेली थी यह देखकर मुझे बड़ी हैरानी हुई थी और मुझे अजीब भी लगा था मैंने अपनी मम्मी से नी के बारे में पूछा कि नी कहां पर है मम्मी तो मम्मी ने एक अजीब से अंदाज से मेरी तरफ देखा और कहने लगी बेटा मुझे क्या पता तुम्हारी पत्नी कहां है तुम लोग सारा दिन कमरे से बाहर तक नहीं निकले हो

 अब आए हो तो आते ही मुझसे अपनी पत्नी के बारे में पूछ रहे हो इस बारे में तो तुम्हें पता होना चाहिए कि तुम्हारी पत्नी कहां है और कहां नहीं मम्मी का गुस्सा देखकर तो मैं डर गया था मैंने उनसे दोबारा कोई सवाल नहीं किया फिर मैं अपनी बहन के कमरे की तरफ चला गया मेरी दोनों बहनें आराम से अपने कमरे में सो रही थी मेरी पत्नी तो वहां पर भी नहीं थी अब मैं अपने कमरे में आ गया था 

और मैंने आखिर पूरे घर में उसे ढूंढ लिया था तभी अचानक मेरी नजर कमरे के स्टोर रूम पर गई स्टोर रूम का दरवाजा भी खुला हुआ था और स्टोर रूम की लाइट भी जली हुई थी मैंने देखा कि स्टोर रूम में भी प्यास की बदबू फैली हुई थी ऐसा लग रहा था जैसे कि कोई अभी-अभी यहां से प्यास काट कर निकला है वहां पर प्यास के छिलके भी पड़े हुए थे मैंने अपनी मम्मी से बाहर आकर पूछा कि क्या आपने अभी खाना बनाया है 

मम्मी ने तो इंकार करते हुए सिर हिला दिया उन्होंने कहा बेटा तुम पागल हो गए हो क्या आखिर रात के 2:00 बजे मैं किसके लिए खाना बनाऊंगी इसका मतलब यह था कि उन्होंने तो प्यास को हाथ भी नहीं लगाया था मैं दोबारा से फटाफट अपने कमरे में आ गया मैं जैसे ही कमरे के अंदर गया तो मेरी पत्नी कमरे में ही मौजूद थी मेरी पत्नी मुझे अचानक इस तरह से देखकर घबरा सी गई वह कहने लगी आप कहां पर थे

 मैंने कहा मैं तो तुम्हें ही ढूंढ रहा था तुम कहां पर चली गई थी मैं कब से तुम्हें ढूंढ रहा हूं वह हंसने लगी और कहने लगी यह बड़ी अजीब बात है मैं आपको ढूंढ रही थी और आप मुझे ढूंढ रहे थे मेरी पत्नी मुझे बड़ी अजीब से रिएक्शन दे रही थी उसे देखकर ऐसा लग रहा है जैसे वह किसी झूठ को छुपाने की कोशिश कर रही है वह कह रही थी कि मैं आपको ढूंढने के लिए कमरे से निकली थी

 मैंने कहा लेकिन मैं तो तुम्हारे बाद कमरे में आया था यह बात तुम्हें अच्छी तरह से पता है मेरी इस बात पर वह लाजवाब हो गई थी उसके पास मुझे देने के लिए कोई जवाब नहीं था वह खामोश थी मैंने सोच लिया था कि मैं अपनी पत्नी की हकीकत जा न कर ही रहूंगा पता नहीं वह मुझसे क्या छुपा रही थी मैं जब भी कमरे में आता था वह घबरा जाती थी उस समय तो हम दोनों सो गए थे 

मगर सुबह नाश्ते के टाइम पर घर का माहौल बड़ा अलग था एक बात जो मुझे बहुत तंग कर रही थी और बार-बार बेचैन कर रही थी वह यह थी कि मेरी मम्मी बार-बार मेरी पत्नी को सर से लेकर पैर तक घूर घूर कर देख रही थी ऐसा लगता था कि उन्हें भी मेरी पत्नी पर किसी बात की वजह से शक हो रहा है मगर ऐसी कौन सी बात थी जो मेरी मम्मी को बेचैन कर रही थी जबकि मेरी दोनों बहनें तो नॉर्मल रिएक्ट कर रही थी 

और उनका बिहेवियर मेरी पत्नी के साथ बहुत अच्छा था मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था मैं उठकर अपने कमरे में आ गया थोड़ी देर के बाद जब मैं बाहर गया तो मेरी मम्मी अकेली बैठी हुई थी मैंने उनसे पूछा कि आप मेरी पत्नी को इतनी घूर कर क्यों देख रही थी जैसे वह कोई चोर हो और आप डाकू हो मम्मी क्या आपको मेरी पत्नी अच्छी नहीं लगी मेरी मम्मी कहने लगी नहीं बेटा मैं तो ऐसा कुछ कुछ भी नहीं कह रही 

बस मैं अपनी किसी परेशानी में खोई हुई थी मैंने कहा मम्मी आखिर ऐसी भी क्या परेशानी हो गई मैंने सवाल किया तो मम्मी ने भी मुझे एक बड़ी अजीब सी बात बताई थी मम्मी ने कहा कि मैं तो परेशान इसलिए हूं कि जिस दिन से तुम्हारी पत्नी इस घर में आई है घर में कुछ भी अच्छा नहीं हो रहा बहू के कदम घर के लिए अच्छे साबित नहीं हुए तुम्हें मेरी बातें जरूर बुरी लग रही होंगी मगर मुझे तो ऐसा ही लगता है 

और जैसा मुझे लगता है मैं सच सच तुम्हें बता रही हूं मम्मी की इस बात से मेरे दिल में तो बहुत गुस्सा आया मगर ऊपर से नॉर्मल रहते हुए मैंने उनसे पूछा कि मम्मी आप ऐसी बातें क्यों कर रही हो आपके पास क्या सबूत है कि उसके कदम इस घर के लिए अच्छे नहीं हैं मेरी मम्मी कहने लगी मैं खुद से ऐसी बातें नहीं बना रही हूं मैंने जो देखा है मैं वही कह रही हूं तुम्हें यह बातें नजर नहीं आती 

मगर मैं तुम्हें बताती हूं कि दरअसल बात क्या है मैंने तुम्हारे दिए हुए पैसों से ढेर सारी सब्जी घर में भरकर रखी हुई थी 30 किलो प्याज और 10 किलो लहसुन भी मंगवाया था क्योंकि प्याज तो हर खाने में इस्तेमाल की जाती है और प्याज का इस्तेमाल भी ज्यादा होता है हमने सोचा कि एक साथ प्याज घर में भर लेते हैं ज्यादा दिन तक काम आएगी और लहसुन भी 10 किलो में से 5 किलो के हिसाब से गायब हो गया

बार-बार लेना नहीं पड़ेगा मगर जानते हो वह सारा का सारा प्याज और लहसुन कहां गायब हो गया है 20 किलो प्याज तो हम एक महीने में इस्तेमाल कर चुके हैं मगर उसमें से 10 किलो प्याज अभी भी बाकी है वह कहां चला गया जिस दिन से तुम्हारी पत्नी आई है लहसुन गायब हो रहा है अभी फिलहाल में ही मैंने सब्जी की दुकान से आधा पाव नींबू खरीदा था वह भी मुझे कहीं नहीं मिल रहा जमीन निगल गई या आसमान खा गया 

घर के सामान की इतनी ज्यादा बेकद्र तो हमारे घर में कभी नहीं हुई थी जितनी तुम्हारी पत्नी के आने के बाद होने लगी है और तो और एक दिन तो तुम्हारी छोटी बहन ने तुम्हारी पत्नी के अंदर बड़ी अजीब सी बात देखी थी तुम्हें याद है तुम पर अपने दोस्त के घर गए थे तुम्हारी पत्नी ने कमरे का दरवाजा अंदर से बंद किया हुआ था मेरी बेटी जैसे ही तुम्हारे कमरे में गई तो तुम्हारी पत्नी ने दरवाजा खोल दिया था 

मगर कमरे के अंदर मोमबत्तियां का धुआ फैला हुआ था और उसने जमीन पर नींबू प्याज और लहसुन के ढेर सारे छिलके भी पड़े हुए देखे थे मम्मी की बात सुनकर तो मेरे दिमाग में भी काफी सारे सवाल उठने लगे थे प्यास प्यास की बातें सुनकर तो मैं थक चुका था मगर शादी की पहली रात जो नजारा मैंने देखा था वह भी बड़ा खतर नाक था वह अभी तक मेरे दिमाग से गया नहीं था मैंने सोचा कि मैं इस बारे में आज अपनी पत्नी से खुलकर बात करके ही रहूंगा

 मैं जैसे ही कमरे में गया मेरी पत्नी सो चुकी थी कुछ दिन तो इसी तरह से गुजर गए थे क्योंकि मैंने नौकरी पर जाना शुरू कर दिया था जैसे ही कमरे के अंदर जाता तो मुझे भी मोमबत्ती के धुएं की स्मेल आती थी मगर इस टाइम मोमबत्ती का क्या काम था क्योंकि हमारे घर में तो इनवर्टर लगा हुआ था और मैंने बची हुई मोमबत्तियां के टुकड़े भी अपने कमरे में देखे थे मैं जब भी अपनी पत्नी से कोई बात पूछने की कोशिश करता तो उसकी खूबसूरती में इतना गुम हो जाता था कि मैं सब कुछ भूल जाता था 

वह मुझे इतनी खूबसूरत लगती थी कि उसे देखने के बाद मुझे कुछ याद ही नहीं रहता था बस मैं यही चाहता था कि वो दिन बदन और ज्यादा खूबसूरत होती जा रही है मगर मेरी मम्मी कुछ नहीं बोलती थी घर से हर दिन नींबू लहसुन और प्याज जैसी चीजें गायब हो रही थी एक दिन मैं ऑफिस से जल्दी घर आ गया तो मम्मी ने मुझसे कहा कि बेटा पहले तो सिर्फ सब्जियां ही गायब हो रही थी 

लेकिन अब तो घर के चावल भी गायब हो रहे हैं घर में 5 किलो चावल पड़े हुए थे उसमें से मैंने अभी थोड़े ही चावल बनाए थे लगभग 2 किलो के करीब चावल गायब हैं क्योंकि व 2 किलो चावल मैंने अलग से रखे हुए थे आज मुझे दाल चावल बनाने थे मगर चावल तो गायब हो गए मुझे अच्छी तरह से याद है कि मैंने अपने हाथ से चावल निकालकर भिगो दिए थे मगर सारे के सारे चावल गायब हो गए

 आज मैं तुम्हारी पत्नी से दाल चावल बनवाना चाहती थी क्योंकि जिस दिन से वह घर में आई है उसने अभी तक किचन में कदम नहीं रखा मैं चाहती थी कि बहू से भी कुछ बनवा लूं मगर वह भिगोए हुए चावल तो किचन से ऐसे गायब हुए जैसे गधे के सर से सींग गायब होते हैं बेटा अब तुम ही मुझे बताओ कि मैं तुमसे शिकायत ना करूं तो क्या करूं घर में तुम्हारी पत्नी ही है जो एक नई आई है

 बाकी इससे पहले तो हमारे घर में कभी ऐसी अजीबोगरीब हरकतें नहीं हुई और हां तुम्हारी पत्नी ने गली के किसी बच्चे से दरवाजे में खड़े होकर उसे पैसे दिए और उसे दुकान से मोमबत्तियां भी मंगवाई थी क्योंकि घर में मोमबत्तियां का कोई काम नहीं है और ना जाने तुम्हारी पत्नी कमरा बंद करके अंदर क्या-क्या करती रहती है मैं तुम्हारी पत्नी पर शक नहीं कर रही बेटा लेकिन पता नहीं उसने तुम पर क्या जादू कर दिया है कि जब तुम अपनी पत्नी के पास कमरे में जाते हो

 तो फिर कमरे से बाहर निकलने का नाम ही नहीं लेते और तुम्हें कोई बात नजर भी नहीं आ रही तुम्हारी आंखों पर तो पट्टी बं गई है मम्मी की बात सुनकर तो मुझे अफसोस होने लगा फिर मुझे शादी की पहली रात वाली बात याद आने लगी जब मैं अपने कमरे में गया था और मैंने अपनी पत्नी का वह रूप देखा था जिसने मुझे पूरी तरह से डराकर रख दिया था मेरी पत्नी ने अजीब तरह से अपने बालों को बांधा हुआ था

 और एक बड़ा सा लाल रंग का टीका अपने माथे पर लगाया हुआ था और उसने अपने चेहरे पर काला रंग मला हुआ था जिसकी वजह से उसका चेहरा काला हो रहा था पता नहीं उसने ऐसा क्यों किया था क्योंकि मैं उसको देखकर डर गया था और मैं उससे उस समय कोई सवाल नहीं कर पाया था हालांकि जब मैं सुबह उठा तो मैंने उसे देखा वह बहुत गोरी थी उसके चेहरे पर ना तो काला रंग लगा हुआ था 

और ना ही लाल रंग का उसके माथे पर बड़ा सा कोई टीका लगा हुआ था लेकिन उस रात मैंने उसका बड़ा ही खतरनाक रूप देखा था मगर मैं अपनी शादी को सिर्फ एक छोटी सी बात पर तो नहीं तोड़ सकता था इसलिए मैंने यह बात किसी को नहीं बताई थी और जब भी अपनी पत्नी से उसकी उस हालत की वजह पूछने की कोशिश करता तो ना जाने उसकी खूबसूरती में कहीं गुम हो जाता था 

और मैं सारी बातों को भूल जाता था मैं उससे कोई सवाल ही नहीं कर पाता था अगले दिन जब मेरी पत्नी नहा धोकर मेरे सामने आई तो वह बहुत ज्यादा खूबसूरत लग रही थी उसका रंग भी बिल्कुल साफ था और उसे देखकर कोई कह नहीं सकता था कि मैंने शादी की पहली रात जो रूप देखा था वह उसी का था जब वह मेरे सामने थी तो मैं उसे देखकर उस पर फिदा ही हो गया था 

मगर वह पहले दिन वाली बात मेरे दिमाग में अटकी हुई थी मैंने मम्मी से कहा आप खुद अपनी बहू से इस बारे में सवाल करोगी ना जाने मैं उसके करीब जाता हूं तो मुझे क्या हो जाता है मैं उससे कुछ नहीं पूछ पाता इसलिए आप ही इस बारे में उससे बात करोगी कि क्या हुआ है और क्या नहीं वैसे भी मैं इन मामलात में नहीं पड़ना चाहता मम्मी मेरे साथ ही कमरे में आ गई मैंने जैसे ही कमरे का दरवाजा खोला तो मेरी पत्नी शायद आज दरवाजा बंद करना भूल गई थी 

उसे देखकर तो एक बार फिर से हमारी चीखें निकल गई थी हमारी जगह आप लोग भी होते तो आपका भी वही हाल होता क्योंकि मेरी पत्नी जमीन में मोमबत्तियां का एक गोल घेरा बनाकर बैठी हुई थी उस उसके आगे लाल रंग का कपड़ा पड़ा हुआ था और उसने नींबू लहसुन और प्यास को काटकर जमीन पर लगाया हुआ था उसकी हालत तो बिल्कुल चुड़ैलों जैसी हो रही थी वह बहुत खतरनाक लग रही थी

 पर अचानक हम दोनों को कमरे में देखकर वह बेहोश हो गई हमने उसे जगाने की बड़ी कोशिश की मगर कुछ देर के बाद वह खुद ही होश में आ गई थी हमने उन मोमबत्तियां को और सामान को किसी तरह से हाथ नहीं लगाया था जैसे वह चीज जमीन पर पड़ी हुई थी वैसे ही रहने दी थी मेरी बहने भी कमरे में आ गई थी और वह इस सब को देखकर बहुत डर गई थी और अपने कमरे में बंद हो गई थी 

उन्हें मेरी पत्नी से डर लग रहा था जबकि मैं और मम्मी मेरी पत्नी के पास ही बैठे हुए थे मेरी पत्नी जैसे ही होश में आई तो खूब रोने लगी मैंने उसे सवाल किया कि आखिर तुम यह सब कुछ क्या कर रही थी अपनी पत्नी को रोता हुआ देखकर मेरे दिल में तरस आ गया लेकिन मेरा यह सवाल करना उससे बहुत जरूरी था क्योंकि अब मैं सच्चाई जानना चाहता था मैं उससे पूछने लगा इतने दिनों से तुम यह क्या ड्रामा कर रही हो

 वह कहने लगी कि यह ड्रामा नहीं है बल्कि हमारे शहर की कुछ औरतों को करना ही पड़ता है यह सब करना हमारी बहुत बड़ी मजबूरी है मैं जानती थी कि तुम मुझे पसंद करते हो इसीलिए मैंने तुमसे फौरन ही शादी के लिए कहा था मैं तुम्हारे साथ कनाडा में नहीं रह सकती थी क्योंकि तुम अपने माता-पिता के इकलौते हो तुम कभी भी अपनी फैमिली से दूर नहीं रह सकते थे एक ना एक दिन तो तुम्हें अपनी फैमिली के पास आना ही था

 इसलिए मैंने जल्दी ही फैसला कर लिया था कि कि तुम अपनी फैमिली के पास आ जाओ मैं तुम्हें ज्यादा नहीं जानती थी मगर तुम्हारी आंखों में मैंने प्यार देखा हुआ था यह काले जादू का एक टोट का होता है हम लोग इस तरह से शादी के दो महीने बाद तक करते हैं क्योंकि जिस इंसान को अगर हम नहीं जानते उसके बारे में हमें कैसे पता चलेगा कि वो सारी जिंदगी हमारे साथ रहेगा भी या नहीं मैंने तुम्हें अपने वश में किया हुआ है 

मैं काला जादू बहुत अच्छे तरीके से जानती हूं मैं नहीं बल्कि मेरी सारी बहनें जानती हैं ये एक तरह का टोटका होता है इस मोमबत्ती के घेरे में बैठने से और इन बदबूदार सब्जियों का इस्तेमाल करने से जैसे लहसुन और प्याज इन बदबूदार चीजों पर कुछ ऐसे मंत्र पढे जाते हैं जो इनमें ताकत पैदा कर देते हैं और कमरे में चारों तरफ उनकी बदबू फैल जाती है ऐसा करने से पति पत्नी के वश में हो जाता है 

पति से चाहे उसकी पत्नी की कोई भी बुराई करें मगर वह अपनी पत्नी के करीब आते ही सारी बुराइयां भूल जाता है और कभी भी उसे छोड़ने के बारे में सोच भी नहीं सकता ऐसा ही कुछ तुम्हारे साथ भी हो रहा है और नींबू मैं अपने चेहरे पर लगाती हूं ताकि नींबू के रस को अपने चेहरे पर लगाने से मैं अपने चेहरे की खूबसूरती को बढ़ा सकूं और चावल के पानी से मैं अपने बालों को धोती हूं

 ताकि मेरे बाल सदा खूबसूरत रहे और तुम्हारी नजर मेरी खूबसूरती से कभी ना हटे ऐसा करने से हम औरतें और ज्यादा खूबसूरत होती हैं दरअसल हमारे छोटे से इलाके में कुछ औरतें बदसूरती की वजह से अपने पतियों से तलाक ले चुकी हैं या फिर कुछ लोगों ने उनकी पत्नियों को अपने पति के साथ चैन और सुकून की जिंदगी जिंदगी गुजारने नहीं दी जैसे कि सास नंदे या फिर देवरानी जेठानी कुछ लोग ऐसे होते हैं कि पति-पत्नी को सुकून से नहीं देख सकते 

इसलिए वोह उन दोनों को अलग करवाना चाहते हैं इन्हीं सब की वजह से तंग आकर हम औरत यह सब कुछ करते हैं ताकि हम जैसी औरतों की जिंदगी शादी के बाद कोई भी बर्बाद ना कर सके और हमारा पति किसी दूसरे इंसान के कहने में ना आ सके मेरा यह ऐसा करने का मकसद कुछ गलत नहीं था बस मैं तुम्हारा साथ कभी नहीं छोड़ सकती मैं हमेशा तुम्हारे साथ रहना चाहती हूं

 क्योंकि हम लड़कियां शादी को लेकर बहुत सीरियस होती हैं मैं भी ऐसा इसीलिए कर रही थी कि आप मेरा इतना ख्याल रखते हो जब आप मुझे देखते हो तो मैं आपको खिली खिली और निखरी निखरी लगूं मैं अपनी पत्नी की बात सुनकर खामोश हो गया था जबकि मेरी मम्मी भी शर्मिंदा हो रही थी अब मुझे पता चला था कि वह इतनी खूबसूरत ऐसी ही नहीं थी वह अपना बहुत ख्याल रखने की वजह से इतनी खूबसूरत दिखाई देती थी 

मेरी मम्मी ने भी धीरे-धीरे इन बातों को एक्सेप्ट कर लिया था मगर काले जादू वाली चीज को हम लोगों ने खत्म करवा दिया था मेरी पत्नी का ऐसा कुछ भी करने का गलत मकसद नहीं था बस वह अपने रिश्ते को कायम रखना चाहती थी आजकल मैंने भी ऐसे बहुत सारे रिश्ते देखे हैं जो पति-पत्नी दूसरे लोगों की बातों में आकर अपने पवित्र रिश्ते को तोड़ देते हैं शायद मेरी पत्नी इन्हीं बातों से बहुत डरी हुई थी 

और ऐसा कर रही थी मेरी पत्नी ने अब काला जादू करना छोड़ दिया है क्योंकि मैंने उसे भरोसा दिलाया है कि मैं तुम्हारा साथ कभी नहीं छोडूंगा मेरी मम्मी ने भी उसे एक्सेप्ट कर लिया और वह मेरी बहनों के साथ भी बहुत अच्छे तरीके से रहती है अब वह घर के काम में भी हाथ बटा है और वह एक अच्छी पत्नी साबित हुई है हालांकि अपनी खूबसूरती को बरकरार रखने के लिए वह सारे नुस्खे करती है जो वह पहले किया करती थी 

यहां तक कि उसने मेरी बहनों को भी वह नुस्खे बताए हैं मेरी बहनें भी उसके बताए हुए नुस्खे अपनाती हैं और अब दिन बदन खूबसूरत होती जा रही है मेरी बड़ी बहन का तो रिश्ता भी तय हो गया मेरी जिंदगी मेरी पत्नी के साथ बहुत अच्छी गुजर रही है और मैं अपनी वही पुरानी वाली नौकरी कर रहा हूं जो कनाडा जाने से पहले किया करता था वहां पर मेरी सैलरी भी डबल हो गई क्योंकि मैंने दिल लगाकर वहां पर मेहनत की और मेरे पास पैसा भी अब काफी आ गया दोस्तों उम्मीद करती हूं आपको हमारी कहानी पसंद आई होगी 

 

Also Read – 

माफ़ी | Emotional Story Hindi | Long Hindi Story | Sad Story in Hindi | Meri Kahaniya Ft28

माँ ने ऐतबार खो दिया | Manohar Hindi Story | Kamuk Kahaniyan | Sad Story In Hindi

 

Youtube Channel Link – Hindi Story Moral

Leave a Comment